बुधवार, 11 अक्तूबर 2017

शांति के संदेशवाहक परमपूज्यनीय मालिक राम जोशी

शांति के संदेशवाहक परमपूज्यनीय मालिक राम जोशी

शांति के संदेशवाहक परमपूज्यनीय मालिक राम जोशी का जन्म सन 1942 में सितलकुण्डा, मुगेली नामक ग्राम में जन्म हुआ इस समय पूरा परिवार राज्य में अंग्रजो के खिलाफ संघर्ष में लगा हुआ था l आप माता श्यामा देवी व आचार्य त्रिभूवन जोशी के सुपूत्र है l

आपने पूरा जीवन त्याग, धर्म, दान व शांति के पथ पर चलते हुए चला, आपने अपना सम्पूर्ण सम्पत्ति सितलकुण्डा व आसपास के गरीब लोगों में बांट कर स्वयं ही पलायन कर गये इस कार्य में आपवके धर्मपत्नि श्रीमती कली देवी का सदैव ही साथ रहा l माता कली देवी आपके लिए प्राण प्रिय व सहयागी रही आपने अपने धर्मपत्नि के साथ सदैव मित्रवत व्यवहार रखा l आपने '''पत्नि को मित्र कहने के लिए जनमानस से आहवान''' भी किया l 

आपने सतनामियों के उत्थान के लिए उन्हें माटपूर, जामूनपानी व छिरहा नामक वनग्राम में बसाने के लिए अथक प्रयास किया आपके मनकी में पलायन के दौरान वहां के अधिकांश नागरिक बहुत गरीब थे जिसे आपने व आपके सुपूत्र श्री शैल जोशी ने स्वरोजगार हेतु मार्गदर्शन दिया और उनके गरीबी का उन्मूलन करने का प्रयास किया गया l इस कार्य हेतु गांव के मंडल परमपूज्यनीय संभू दास जांगडे ने आपका व आपके सूपूत्र का सयोग किया l आप जीवन पर्यन्त शांति के संदेश देते रहे इसलिए आपको परमपूज्यनीय संभू दास जांगडे द्वारा '''शांतिके संदेश वाहक''' कहा l आप 71 वर्ष की उम्र में दिनांक 18 दिसंबर 2013 को '''अमरलोक के लिए प्रस्थान''' किये l 

आप अपने जीवन काल के दौरान सर्वशिक्षण एवं समाज कल्याण समिति, लाईफकेयर वैकल्पिक चिकित्सा सेवा संस्थान के माध्यम से समाज सेवा व शिक्षा का प्रचार प्रसार किया इसके साथ ही आप देव सेल मार्केटिंग प्राईवेट लिमिडेट के निदेशक रहे l

मानव जीवन का वास्तविक सिद्धांत क्या है ?

मानव जीवन का वास्तविक सिद्धांत क्या है ? "मनखे-मनखे एक समान" से परिचित हुए बिना कोई भी मानव पूर्णतः मानव नही हो सकता।...