सतनामी एकता

सतनामी एकता
आदरणीय संतों, माताओं और बहनों को सादर नमन जय सतनाम
आप यह मैसेज पढ़ रहे है इसका तात्पर्य यह है की आप समाज सेवा और सतनामियों के पुनरुत्थान के लिए सक्षम अवश्य हैं । 

आपको यह बताना आवश्यक है की सतनाम धर्म की स्थापना सृस्टि के निर्माण के साथ ही हो चूकि थी । जो दुष्टो के जन्म, प्रहार और षड़यंत्र के कारण धीरे धीरे विघटन की ओर चला जाने लगा ।
मनुवादी सिद्धांतों ने सतनामियों को भी झुकाने का प्रयाश किया परंतु हमने सत्य और पराक्रम के बल पर अपने पूर्वजों और धर्मगुरुओ के निर्देश और संगठन से स्वयं के मान सम्मान को बचाने में सफल रहे - इसके बावजूद हम अन्य षड्यंत्रकारीयो के सडयंत्र से आज स्वयं को अधिक प्रभावकारी होने से परे देख रहे है । 
जिसका एक ही कारण है - सतनामी समाज की एकता में अनेकता, जबकि सतनामी समाज में और सतनाम धर्म में सदैव एकता ही रहा है ।
हम लोगों के वैचारिक प्रहार के कारण, फुट डालो और राज करो जैसे कूटनीति के शिकार होते जा रहे हैं जो अत्यंत निंदनीय है ।


आदरणीय संतों माताओं और बहनों उपरोक्त कारणों से मेरा निम्नांकित निवेदन स्वीकार करने के लिए अनुरोध है -
1 सतनामी एवं सतनाम धर्म का मूल सिद्धांत है - मनखे मनखे एक सामान । इसका मतलब कोई नीच और कोई उच्च नहीं है ।
2 हम सतनामी अपने पुनरुत्थान के लिए अपनी एकता को बनाए रखेंगे और सबको साथ लेकर चलेंगे ।
3 समाज के बच्चों को सतनाम संस्कार देंगे और युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पूर्ण मार्गदर्शन और निःषुल्क परामर्श व कोचिंग देंगे ।
4 हम सब मिलकर समाज के सर्वांगीण विकास का जिम्मा सम्हालेंगे ।
5 हम सतनामी राजनैतिक रूप से किसी भी पार्टी में होंगे परंतु सामाजिक रूप से एकजुट ही रहेंगे ।
7 देश विदेश में हम जहाँ भी रहेंगे सतनामी विकास और पुनरुत्थान के लिए संगठित रहेंगे और कम से कम एक सतनामी समिति, सतनामी संगठन, सतनामी परिसद या सतनामी संस्था के सदस्य जरूर होंगे ।
8 हम सतनामी सत्य और समाज के रक्षा के लिए सदैव तत्पर होंगे । यदि कोई हमारे मान सम्मान को गिराने का प्रयास करेगा तो उन्हें मुहतोड़ जवाब देने से पीछे नहीं होंगे ।
9 सतनामी सम्मान के लिए शिक्षा, संस्कार, रोजगार और स्वरोजगार के निःषुल्क अवसर उपलब्ध जरूर कराएँगे ।
जनहित में माता कली देवी जोशी के निर्देशानुसार हुलेश्वर जोशी सतनामी द्वारा प्रसारित,, सामाजिक उत्थान के लिए सलाह और मार्गदर्शन हेतु 94060-03006 में कॉल करें ।

हुलेश्वर जोशी सतनामी

मानव जीवन का वास्तविक सिद्धांत क्या है ?

मानव जीवन का वास्तविक सिद्धांत क्या है ? "मनखे-मनखे एक समान" से परिचित हुए बिना कोई भी मानव पूर्णतः मानव नही हो सकता।...