सतनाम धर्म और राजागुरू बालकदास - सतनाम धर्म

शनिवार, 23 अगस्त 2014

सतनाम धर्म और राजागुरू बालकदास

सतनाम धर्म और राजागुरू बालकदास

गुरू जी समाज को एकता के सूत्र में बांधने के लिये गाँव-गाँव में भंडारी, छड़ीदार, जैसे सम्मानित पदो का चुनाव किये ताकि प्रत्येक गाँव में सतनाम धर्म के रिजी रिवाजो के अनुसार धार्मिक अनुष्ठान जैसे शादी-ब्याह, मरणी-दशगात्र जैसे समाजिक क्रिया क्रम सुगमता से किया जा सके । साथ ही महंत, राजमहंत जैसे सर्वोच्च सम्मानीय पदो का भी चुनाव योग्यता और समाजिक अनुभव को आधार मानते हुये किये इससे यह हुआ कि पुरा समाज गुरू से जुड़े रहे । दुसरी तरफ गुरू जी के बड़े भाई अध्यात्म गुरू के नाम से जाने-जाने वाले गुरू अमर दास जी ने सतज्ञान और सतमहिमा को आधार मानते हुये लोगो को सतनाम से जोड़ने का अनुकरणीय कार्य किये । जैतखाम, चौका पूजा, गुरू गद्दी, पंथी आदि के माध्यम से साथ ही रामत, रावटी करके भी समाज को जागृत करने के लिये गुरूजनो ने अपना सारी ताकत झोक दिये जिसका नतीजा यह निकला कि समाज में आपसी एकता और धार्मिक सहिष्णुता की भावना लोगो की मन में कुट-कुट कर समाहित होने लगी । गुरू बालकदास जी एवं गुरू अमरदास जी के जीवन चरित्र को जाने समझे बिना उनके सौर्य शक्ति का उचित आकलन नही किया जा सकता, गिरौदपुरी, भंडारपुरी, तेलासी, खड़ुवा, चटुवा, खपरी, कुँआ बोड़सरा, कुटेला, पचरी आदि धामो का इतिहास जो आज भी लोगो के जबान में यथावत है उन सच्ची घटनाओ को लिपी बद्ध करके हमें अपने गुरू जनो के अद्भुत कार्य को सम्मानित करना होगा जिसके द्वारा हमारे आने वाले पिढ़ी भी हमारे समाज की सच्ची गौरव गाथा को जान सके । यह कार्य हम सभी पढ़े लिखे साथियों का कर्ज है जिसे पूरा करना ही होगा ।


राजागुरू बालकदास के संदर्भ में महत्वपूर्ण ज्ञान :- 

 परमपूज्य गुरू घासीदास बाबा जी के द्वतीय सुपूत्र गुरू बालकदास जी का जन्म, जन्माष्मी के दिन हुआ था । इसलिये सतनामी लोग पहले जैतखाम में जन्माष्टमी के दिन झंडा चढ़ाते थे जिसे पालो चढ़ाना कहा जाता था । गुरू बालकदास जी, गुरू घासीदास जी के साथ सामाजिक बुराइयों को दुर कर समाज को दिशा देने में लगे थे जिसके लिये महंत,राजमहंत, दीवान, भंडारी, साटीदार आदि बनाकर सतमार्ग पर चलने के लिये नियम बनाये और उस नियम (सतनामी एवं सतनाम धर्म के रिती नियम निचे लिखा गया है ) पर चलने के लिये प्रेरित करते रहे । गुरू बालकदास जी, अपने पिता, गुरू घासीदास जी के अनुयायीयों को सतनाम धर्म पालन करने के लिये, अमृत वाणियों का प्रचार कर कट्टरता से पालन करने के लिये आचार संहिता बनाकर समाज सुधार में लगे थे परिणाम स्वरूप समाज में गुरू बालकदासजी, गुरू बंशावली की गरिमा को बनाये रखते हुये गुरूजी के अनुयायियों को एकजुट करने में सफल हुये । गुरू बालकदास जी रामत के रूप में गाड़ी, घोड़ा, हाथी के साथ अपने महंतो, दीवानो को लेकर निकलते थे । समाज सुधार के साथ सामाजिक न्याय भी करते थे और अभियुक्त को दंड भी दिया करते थे । गुरू बालकदास जी कुँआ बोड़सरा को अपना कार्य स्थल चुने, गुरूजी का बहुतायत समय रामत घुमने में ब्यतित होते हुये । गुरूजी का विवाह ढारा नवलपुर (बेमेतरा) के निवासी मोतीलाल की सुपुत्री नीरा माता के साथ हुआ । नीरामाता, भूजबल महंत के बहिनी थी । उसी वर्ष गुरूजी ने चितेर सिलवट के बेटी राधा संग भी ब्याह किये । गुरूजी और राधा माता से साहेबदास और बड़ी पत्नी नीरामाता से गंगा और गलारा नाम की दो पुत्री हुई । भंडारपुरी में गुरूजी ने चौखण्डा महल बनवाया जिसमें तलघर, राजदरबार, मुसािफर खाना, पूजा स्थल, उपचार गृह, दीक्षा गृह बनवाये । महल में स्वर्ण कलश और अंगना में जोड़ा जैतखाम का स्थापना किये । गुरूजी रामत घुमते समय संतो को उपदेश के साथ साथ सतनाम की दीक्षा भी देते थे, जनेऊ पहिनाये, कंठी बांधे इस तरह समाज को सतनाम धर्म के सच्चे अनुयायी बनाते गये । 

सतनामी एवम् सतनाम धर्म :- 

सत से तात्पर्य मुख्य कार्य और नामी से तात्पर्य पहचान । जिस तरह लोहे के कार्य करने वाले को लुहार, कपड़ा धोने के कार्य करने वाले को धोबी, रखवाली करने वाला को रखवाला, गाना गाने वाले को गायक, नृत्य करने वाले को नृतक, नशा करने वाले को नशेड़ी, शराब पिने वाले को शराबी, पोथी पुराण के ज्ञानी को पंडित, राज करने वाले को राजा, सेवा करने वाले को सेवक, तपस्या करने वाले को तपस्वी, ठीक उसी तरह "सतकर्म" करने वाले को "सतनामी" कहते हैं। सतनामी नही तो जाति है और नही कोई धर्म, वह तो सतनाम के मानने वालो की पहचान है जिसे आज सतनामी जाति के नाम से जाना जाता है । सतनामी वह है जिसका कर्म सत्य पर आधारित हो और जो सतनाम धर्म को मानता हो । सतनाम धर्म में छोटा-बड़ा, ऊँच-नीच, छुआ-छुत का कोई स्थान नही है । सतनाम धर्म मानवता वाद पर आधारित है । बाबा गुरू घासीदास जी ने सतनाम धर्म का ब्याख्या इस रूप में किये हैं : "मानव-मानव एक समान" मनखे मनखे एक ये, नइये कछु के भेद । जउन धरम ह मनखे ल एक मानीस, उही धरम ह नेक ।। धर्म :- सच्चा धर्म वही है जिसमें सबका कल्याण हो, जो किसी को किसी भी तरह से छोटा-बड़ा, ऊँच-नीच न समझे । जिस धर्म में मानव को मानव नही समझा जाता, उसके साथ अपनत्व का व्यवहार नही किया जाता वह धर्म, धर्म नही बल्कि धर्म के नाम पर अपने स्वार्थ पूर्ती के लिये रचा गया साजिस है । सतनाम् धर्म में ऐसा किसी भी प्रकार की खामियाँ नही दिखती जो हमारे मन में प्रश्न पैदा करे ।

लेखक- श्री विष्णु बन्जारे सतनामी
       
सतनाम धर्म की ओर से जनहित में प्रसारित

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।