हम सतनामी लोग सामाजिक सद्भावना बनाए रखेंगे - HP Joshi - Satnam Dharm (सतनाम धर्म)

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

हम सतनामी लोग सामाजिक सद्भावना बनाए रखेंगे - HP Joshi

सतनामी संतों, माताओं और बहनों से विनम्र निवेदन है कि वे किसी भी धर्म अथवा जाति के लोगों से वैचारिक, सामाजिक, धार्मिक अथवा आध्यात्मिक मतभेद को लेकर न उलझें। अर्थात कौन से जाति या  धर्म के लोग क्या सही या क्या गलत कर रहे हैं उसमें ध्यान न दें; अपने जीवन स्तर को सुधारने का प्रयास आज से अभी से करिए.....

अपने आसपास के प्रमुख लोगों पर नजर रखो, कहीं कोई व्यक्ति अपने राजनैतिक महत्वाकांक्षा के लिए आपको आत्मघाती हमलावर अथवा मानवता के दुश्मन तो नही बनाने वाले हैं।

कतिपय मामलों में देखा गया है कि कुछ सामाजिक ग्रुप (सतनामी समाज के व्हाट्सएप ग्रुप) में बहिरूपिया लोग शामिल होकर, समाज को लड़ाने और गिराने का काम कर रहे हैं। इन ग्रुप में वे लोग भी हैं जो धर्म परिवर्तन कर चुके हैं या जो खुद को सतनामी नहीं मानते; ऐसे लोगों से भी हमे बचने की जरूरत है।

सतनामी समाज की प्रमुख लक्ष्य/प्राथमिकता उच्च शिक्षा और रोजगार - स्वरोजगार होनी चाहिए।

संविधान के मूल प्रस्तावना पर आधारित देश के वैधानिक कानून के दायरे में रहकर काम करें। अथवा जेल जाने के लिए तैयार रहें....

*साहेब सतनाम*

अधिक से अधिक शेयर करें .......

(HULESHWAR JOSHI)

Narayanpur, CG

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।