महतारी के परमान


// महतारी //
(रचना : आचार्य हुलेश्वर जोशी)


महतारी के कोरा म, सरग के सुख ह मिलथे

एक छूअन म दाई ह, पीरा जम्मो हरथे

परान के दांव लगाके दाई, बेटा ल जतनथे

एही परकट देवी, सरग ले उप्पर रथे ………………… महतारी के कोरा 

 

सरी दुनिया ले जब्बर भारी, दाई के इसथान हे

ऐकर बांचे, लगथें, जम्मो मन बईमान हे

दाई-ददा के चरित्तर देखव, भवंसागर म महान हे

तभो ले देखव संगी कइसे, बेटा ह अनजान हे …………. सरी दुनिया 

 

गरभ भीतरी हमन ल दाई, मुरती असन गढ दिस

आए के बाद दुनिया म, अमरित पान कराईस

लोरी सुना अउ लाड पुरो के, सरग इंहे बनाईस

बेटा ल सुखहर बनाये खातिर, सवांसा घलो तियागिस ………… गरभ भीतरी 

 

अमरित जस गोरस जेकर, जनम देवईया माई ए

हाथ धरके रेंगे सिखईया, दुख हरईया दाई ए

रोवत-रोवत सुख देवईया, अईसन पूजनीय दाई ए

सरग बरोबर कोरा वाले, येहीच ह महामाई ए ……………… अमरित जस 

09/09/2014

सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी

सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी
सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी, यह धर्मशाला छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज द्वारा केवल समाजिक सहयोग से करीब 2.5 करोड़ की लागत से निर्मित है, जिसका उद्घाटन श्री भूपेश बघेल जी, माननीय मुख्यमंत्री द्वारा दिनांक 11.12.2019 को उद्घाटन किया गया है।