महतारी के परमान - सतनाम धर्म

सोमवार, 15 सितंबर 2014

महतारी के परमान


// महतारी //
(रचना : आचार्य हुलेश्वर जोशी)


महतारी के कोरा म, सरग के सुख ह मिलथे

एक छूअन म दाई ह, पीरा जम्मो हरथे

परान के दांव लगाके दाई, बेटा ल जतनथे

एही परकट देवी, सरग ले उप्पर रथे ………………… महतारी के कोरा 

 

सरी दुनिया ले जब्बर भारी, दाई के इसथान हे

ऐकर बांचे, लगथें, जम्मो मन बईमान हे

दाई-ददा के चरित्तर देखव, भवंसागर म महान हे

तभो ले देखव संगी कइसे, बेटा ह अनजान हे …………. सरी दुनिया 

 

गरभ भीतरी हमन ल दाई, मुरती असन गढ दिस

आए के बाद दुनिया म, अमरित पान कराईस

लोरी सुना अउ लाड पुरो के, सरग इंहे बनाईस

बेटा ल सुखहर बनाये खातिर, सवांसा घलो तियागिस ………… गरभ भीतरी 

 

अमरित जस गोरस जेकर, जनम देवईया माई ए

हाथ धरके रेंगे सिखईया, दुख हरईया दाई ए

रोवत-रोवत सुख देवईया, अईसन पूजनीय दाई ए

सरग बरोबर कोरा वाले, येहीच ह महामाई ए ……………… अमरित जस 

09/09/2014

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।