अमरलोक के रसदा

अमरलोक के रसदा

        सतनाम धरम के मान्यतानुसार परमपुज्यनीय गुरूघासीदास बाबाजी के बताये गियान के अनुरूप सत के रस्दा म चलईया अउ असत्य/झूठ/सोसन के खिलाफ संघर्स करईया मनखे सदा ही अमरलोक जाथे l सत्य के मारग म चलईया संत/माता ल सदैव ही आदिपुरूष सतनाम के आसीस मिलथे अउ अमरलोक जायेके समय सतपुरूष के विमान म बईठे के सुअवसर घलो मिलथे l सतनाम धर्म के मान्यतानुसार जउन मनखे के गुरू नई होवय, जेन मनखे ल गुरू के गियान नई मिलय अउ जेन मनखे ह गुरूके बताये गियान के अनुरूप सतमार्ग म नई चलय अइसन मनखे ल अमरलोक जायेके सुभाग नई मिलय l अमरता पाये खातिर जम्मो मनखे ल गुरू बनाना चाही, सतनाम धर्म के सिदधान्त के पालन करना चाही अउ सतपुरूष के संदेश के अनुरूप जीनव व्यतित करना चाही l

आचार्य हुलेश्वर जोशी
ग्राम- मनकी, पोस्ट साल्हेघोरी,
तहसील- लोरमी, जिला-मुंगेली (छग)

सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी

सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी
सतनाम धर्मशाला गिरौदपुरी, यह धर्मशाला छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज द्वारा केवल समाजिक सहयोग से करीब 2.5 करोड़ की लागत से निर्मित है, जिसका उद्घाटन श्री भूपेश बघेल जी, माननीय मुख्यमंत्री द्वारा दिनांक 11.12.2019 को उद्घाटन किया गया है।