UPSC CGPSC और अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? - सतनाम धर्म

मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

UPSC CGPSC और अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

UPSC CGPSC और अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें?


1st - 2nd Class अधिकारी बनने के इच्छुक साथी, जो अभी तक अपना तैयारी शुरू नही किये हैं तैयारी के संबंध में HP Joshi 9406003006 से संपर्क करें।


Syllabus के अनुरूप, समयसीमा तैयार करें।

UPSC/CGPSC के प्रतियोगी NCERT Class 6 -10 किताब को अधिक से अधिक, और short notes बनाकर तैयारी करें। फिर कुछ रेफरेंस बुक भी पढ़ें, बहुत सारे बुक्स का पुस्तकालय बनाने से बचें साथ ही एक ही टॉपिक या विषय को इतना न पढ़े कि आप पीएचडी कर रहे है और दूसरा छूट जाए।

नियमित रूप से 10-12Hrs पढ़ाई करें।

5 से अधिक सिरियस दोस्तों का ग्रुप बनाकर, तैयारी शुरू करें।

पिछले वर्षों के/मॉडल कम से कम 5 प्रश्नपत्र को सप्ताह में सॉल्व करें।

कम से कम 3साल पूर्व से प्री और मेंस की तैयारी साथ साथ शुरू करें, और प्री एग्जाम के 2 3 माह पहले से केवल प्री में फोकस करें।

मेंस में समय प्रबंधन, उत्तर प्रस्तुतिकरण, उत्तर की प्रामाणिकता, और प्रवाह को विशेष ध्यान देवें।

Short Notes आप अपने सुविधा के अनुसार जितना छोटा हो सके तैयार करें, उन्ही तथ्य को शामिल करें जिन्हें आप भूल जाएंगे जबकि वह परीक्षा के लिए उपयोगी है।

इंटरव्यू में सहजतापूर्ण बर्ताव करें, आपके बैकग्राउंड और करंट अफेयर्स से ही पूछे जाएंगे।

दृढनिश्चय कर लें, कि आपको अमुक पोस्ट मिलेगा ही। ओवर कॉन्फिडेंट से बचें, पोस्ट के अनुरूप अपना तैयारी करें।

जो सपना नही देख सकता और जिसका संकल्प मजबूत नही होता वह सफल हो ही नही सकता।

शिक्षा ग्रहण पहले भोजन ग्रहण नहले - माता श्यामादेवी के सिद्धांत पर अपने जीवन को अर्पित कर दें।

कुछ राष्ट्रीय समाचार the hindu इत्यादि पढ़ें।

प्रामाणिक बुक अथवा गवर्नमेंट द्वारा प्रकाशित बुक/रिपोर्ट को पढ़ने की कोशिश करें।


Huleshwar Joshi
Naya Raipur Chhattisgarh
9406003006

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM
हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।