"श्रापित मछली का उद्धार " - सतनाम धर्म

मंगलवार, 11 नवंबर 2014

"श्रापित मछली का उद्धार "

"श्रापित मछली का उद्धार "


एक बार परम पूज्य गुरु घासीदास बाबा जी जंगल के रस्ते से गुजर रहे थे तभी एक गड्ढे से सतनाम ,सतनाम, सतनाम,सतनाम ,शब्दों की आवाज सुनाई देने लगा गुरु जी इधर उधर देखा उन्हें कोई दिखाई नही दिया तभी वे आवाज की दिशा की ओर बड़ा ,सामने गड्ढे के पास पंहुचा और खड़ा हो गया ,आवाज उसी गड्ढे में रह रहे दो मछली से ही आ रहे थे गुरु जी की परिछई जैसे ही उस गड्ढे में रह रहे मछली के ऊपर पड़ते ही उनका स्वरुप दो इन्शानो में परिवर्तित हो गया, गुरु जी कहे भाई ये सब क्या है, अभी आप मछली थे और अब इन्शान मैंने पहली बार किसी के मुह से सतनाम की गूंज भी सुना हूँ , वे दोनों आदमी जो मछली से इन्शान बने थे वे गुरु जी के करीब गड्ढे से बहार आये और गुरु जी के चरणों में गिर गए और कहने लगे से सतनाम गुरु, सतनाम पिता वो सतनाम,सतनाम का आवाज हमारा ही था, आप हमारा उद्धार कीजिए,पिछले जनम में हम भी इसी इन्शान के रूप में थे ,नित प्रति मछलियों का सिकार करते थे इतना अधिक मछली मारे थे की हम कुछ कह नही सकते सुबह शाम रात कोई समय नही देखते थे, और हमेशा मछली मारने में लगे रहते थे ,गुरु जी हमारा मछली मारने का अपराध इतना घोर हो चूका था की एक दिन मछली मारते समय सतनाम पिता के द्वारा आकाश वाणी हुआ ,और कहे हे मछुवारों तुम लोगों का अपराध इतना घोर हो गया है अत्याचार हो चूका है इसके लिए मै तुम लोगों को श्राप देता हूँ , जावो तुम दोनों भी उसी रूप में चले जावो जिस मछली का तुम रोज सिकार करते आ रहे हो ,हमने उनसे आग्रह किया की हे सतनाम पिता हमारे अपराध के मुक्ति का मार्ग तो बता दीजिये तब उन्होंने कहा था की मै अगले जन्म में गिरौदपुरी में जन्म लूँगा और तुम लोगों का उद्धार करूँगा हम बोले की परम पिता हमारा भेंट आपसे कैसे होगा तो कहे तुम लोग सतनाम, सतनाम, सतनाम,सतनाम ,का रट लगाते रहना जिसका आवाज मेरे अवतरित रूप ही सुन सकता है, सो गुरु जी हे सतनाम पिता के अवतारी पिता आपने हमारा सतनाम की रट की पुकार सुन कर हमारे तक पहुच गए पिता आप हमारा उद्धार करे इस प्रकार साथियों परम पूज्य गुरु घासीदास बाबा जी ने उस दोनों श्रापित मछली का उद्धार किया और हमेशा हमेशा के लिए सतलोख में स्थान दिया l


लेखक : मंगल चातुरे 

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।