"आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है " - सतनाम धर्म

मंगलवार, 11 नवंबर 2014

"आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है "



"आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है "


आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ,

आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है !
क्यों भटकते इधर उधर ,नहीं कोई तुम्हारा है ,
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है !


(१)-पहले के तुम राजा थे ,
अब ये कैसा हाल है ,
समझ सके न क्यों तुम भाई ,
ये विरोधियों की चाल है !
हमरे खाये हमें गुर्राये ,
उनका क्या सहारा है..
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ..

(२)-वो भी एक जमाना था ,
जब राजा गुरु का नाम रहे ,
आज के ये ज़माना है ,
क्यों सतनामी अपमान रहे !
दुसरे से हम कभी न हरे ,
पर अपनों से हारा है ...
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ...

(३)-दुश्मनों ने छत्तीसगढ़ को ,
कब से लूटते आ रहे ,
सतनामी को ध्वस्त करके ,
खुशियाँ वो मना रहे !
धन लुटे ये दौलत लुटे ,
इज्जत लुटे ये सारा है ...
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ....

(४)-तुम सेर हो छत्तीसगढ़ के ,
क्यों बिल्ली बन जाते हो ,
अपने जमीन और अपने ही घर में ,
क्यों इनसे दर जाते हो ,
याद नही क्या उनकी क़ुरबानी ,
कैसा ये गंवारा है ...
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ...

(५)-अलग है बस्ती ,अलग है पनघट ,
अलग मरघट शमशान है ,
सब कुछ गुरुओं ने अलग बनाया ,
तब क्यों तू परेसान है !
घूम घूम के गाँवों में देखो ,
अलग हमारा पारा है ...
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है ,
क्यों भटकते ,इधर उधर ,नही कोई तुम्हारा है ,
आवो वीरों सतनामी ,सतनाम सेना तुम्हारा है
कवि श्री मंगल चातुरे

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।