सतनामी एकता - सतनाम धर्म

बुधवार, 11 अक्तूबर 2017

सतनामी एकता

सतनामी एकता
आदरणीय संतों, माताओं और बहनों को सादर नमन जय सतनाम
आप यह मैसेज पढ़ रहे है इसका तात्पर्य यह है की आप समाज सेवा और सतनामियों के पुनरुत्थान के लिए सक्षम अवश्य हैं । 

आपको यह बताना आवश्यक है की सतनाम धर्म की स्थापना सृस्टि के निर्माण के साथ ही हो चूकि थी । जो दुष्टो के जन्म, प्रहार और षड़यंत्र के कारण धीरे धीरे विघटन की ओर चला जाने लगा ।
मनुवादी सिद्धांतों ने सतनामियों को भी झुकाने का प्रयाश किया परंतु हमने सत्य और पराक्रम के बल पर अपने पूर्वजों और धर्मगुरुओ के निर्देश और संगठन से स्वयं के मान सम्मान को बचाने में सफल रहे - इसके बावजूद हम अन्य षड्यंत्रकारीयो के सडयंत्र से आज स्वयं को अधिक प्रभावकारी होने से परे देख रहे है । 
जिसका एक ही कारण है - सतनामी समाज की एकता में अनेकता, जबकि सतनामी समाज में और सतनाम धर्म में सदैव एकता ही रहा है ।
हम लोगों के वैचारिक प्रहार के कारण, फुट डालो और राज करो जैसे कूटनीति के शिकार होते जा रहे हैं जो अत्यंत निंदनीय है ।


आदरणीय संतों माताओं और बहनों उपरोक्त कारणों से मेरा निम्नांकित निवेदन स्वीकार करने के लिए अनुरोध है -
1 सतनामी एवं सतनाम धर्म का मूल सिद्धांत है - मनखे मनखे एक सामान । इसका मतलब कोई नीच और कोई उच्च नहीं है ।
2 हम सतनामी अपने पुनरुत्थान के लिए अपनी एकता को बनाए रखेंगे और सबको साथ लेकर चलेंगे ।
3 समाज के बच्चों को सतनाम संस्कार देंगे और युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पूर्ण मार्गदर्शन और निःषुल्क परामर्श व कोचिंग देंगे ।
4 हम सब मिलकर समाज के सर्वांगीण विकास का जिम्मा सम्हालेंगे ।
5 हम सतनामी राजनैतिक रूप से किसी भी पार्टी में होंगे परंतु सामाजिक रूप से एकजुट ही रहेंगे ।
7 देश विदेश में हम जहाँ भी रहेंगे सतनामी विकास और पुनरुत्थान के लिए संगठित रहेंगे और कम से कम एक सतनामी समिति, सतनामी संगठन, सतनामी परिसद या सतनामी संस्था के सदस्य जरूर होंगे ।
8 हम सतनामी सत्य और समाज के रक्षा के लिए सदैव तत्पर होंगे । यदि कोई हमारे मान सम्मान को गिराने का प्रयास करेगा तो उन्हें मुहतोड़ जवाब देने से पीछे नहीं होंगे ।
9 सतनामी सम्मान के लिए शिक्षा, संस्कार, रोजगार और स्वरोजगार के निःषुल्क अवसर उपलब्ध जरूर कराएँगे ।
जनहित में माता कली देवी जोशी के निर्देशानुसार हुलेश्वर जोशी सतनामी द्वारा प्रसारित,, सामाजिक उत्थान के लिए सलाह और मार्गदर्शन हेतु 94060-03006 में कॉल करें ।



हुलेश्वर जोशी सतनामी

Kindly Share on Social Media - Satnam Dharm

EMozii-for Comments on SATNAM DHARM

हम भारत के नागरिकों के लिए भारत का संविधान समस्त विश्व के सारे धार्मिक पुस्तकों से अधिक पूज्यनीय और नित्य पठनीय है। यह हमारे लिए किसी भी ईश्वर से अधिक शक्ति देने वाला धर्मग्रंथ है - हुलेश्वर जोशी

निःशूल्क वेबसाईड - सतनामी एवं सतनाम धर्म का कोई भी व्यक्ति अपने स्वयं का वेबसाईड तैयार करवाना चाहता हो तो उसका वेबसाईड निःशूल्क तैयार किया जाएगा।

एतद्द्वारा सतनामी समाज के लोगों से अनुरोध है कि किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन के झांसे में आकर धर्म परिवर्तन न करें, समनामी एवं सतनाम धर्म के लोगों के सर्वांगीण विकास के लिए सतनामी समाज का प्रत्येक सदस्य हमारे लिए अमूल्य हैं।

एतद्द्वारा सतनामी समाज से अपील है कि वे सतनाम धर्म की संवैधानिक मान्यता एवं अनुसूचित जाति के पैरा-14 से अलग कर सतनामी, सूर्यवंशी एवं रामनामी को अलग सिरियल नंबर में रखने हेतु शासन स्तर पर पत्राचार करें।